Skip to Content

चार साल पहले जहां से चली थी फिर वापिस वहीं पहुंची भाजपा, हिन्दू बनाम मुस्लिम

चार साल पहले जहां से चली थी फिर वापिस वहीं पहुंची भाजपा, हिन्दू बनाम मुस्लिम

Be First!

अगर कोई पार्टी मुसलमानों के विकास की बात करती है तो वह मुस्लिम परस्त हो गयी और कोई सरकार मुसलमानों के विकास की योजना बना रही है तो??

मुसलमान भारत का मूलनिवासी है उसे देश की सियासत में हिस्सा लेने, विकास में सहभागिता और अपने अधिकारों को पाने के लिए संघर्ष करने का पूर्ण अधिकार है और मुसलमानों का विकास करना सरकार का कर्तव्य, उनके विकास के विषय में सोचना राजनैतिक दलों की ज़िम्मेदारी।
जो लोग कांग्रेस को मुस्लिम परस्त बता रहे है। वह क्यों नहीं एलान करते हैं कि उन्हें मूसलमानो का वोट नहीं चाहिए।
सच्चाई तो यह है कि केंद्र सरकार ने अपने कार्यकाल के 4 वर्ष विदेशों में घूमने और जुमलेबाजी में निकाल दिया। अब जब जनता को हिसाब देने का समय आया है तो फिर वही पुराना घिसा पीटा मुद्दा उठा कर देश को गुमराह करने का प्रयास किया जा रहा है परन्तु जनता बहुत होशियार है। सब जानती है।
दलाल मीडिया को अपनी दलाली मिलती रहे वह अपने नैतिक कर्म की बलि चढ़ा रहा है। राष्ट्रवाद का ढोल पीटने वाले ही सबसे बड़े आतंकवादी है। जिनके सत्ता में आते ही देश का दलित, मुस्लिम भय के वातावरण में जीवन यापन कर रहा है।
यह लोकतंत्र की हत्या नही तो क्या है? आतंकवादियों के साथ 4 साल सरकार चलाया जब छीछालेदर होने लगा तो छोड़ कर भाग खड़े हुए।
सीमा पर आये दिन हमारा वीर सपूत मारा जा रहा है लेकिन इनका ज़मीर मर चुका है अब कु छ दिखाई नही दे रहा है। सत्ता पाने की लालसा ने भाजपाइयों को वहशी बना दिया है। अब राष्ट्र और राष्ट्रवाद इनके लिए सिर्फ सत्ता पाने का हथियार है और हिन्दू व मुसलमान सत्ता की सीढ़ी।
सत्ता जाने से भयभीत पार्टी के नेता और मंत्री अपने कार्यों को बताने के बजाए जनता को गुमराह करने का हथियार ढूंढ रहे हैं।
अभी पूर्वांचल एक्सप्रेस वे के उद्घाटन पर पीएम आज़मगढ़ गए थे और कुछ ही दूरी पर शहीद का जनाजा उनके गांव पहुंचा था। पूरा ज़िला गमगीन था लेकिन भाजपा को अपनी सियासत चमकाने से मतलब था। शहीद के घर जाना तो दूर की बात है अपने सम्बोधन में पीएम या सीएम ने शहीद श्रधांजलि और दुखी परिवार को सांत्वना देने भी मुनासिब नहीं समझा।
अब जनता के सामने भाजपा बेनकाब हो चुकी है। यह पार्टी न हिंदुओं की रही और न ही हिन्दू भाजपा के रहे। देश को विकास, रोजगार और सुरक्षा चाहिए। इन्होने 4 साल तक देश में भय का वातावरण बना कर, देश को गुमराह कर के अपनी अपनी झोलीयां भरी और अपने आकाओं को लाभ पहुंचाया और जब तक पोल खुलती उन्हें विदेश भेज दिया। हम देशवासी हिन्दू, मुसलमान, मन्दिर और मस्जिद में उलझे रहे।
भाजपा की केंद्र सरकार मुस्लिम विकास की योजनाओं को क्यों नहीं बन्द कर देती?
नही कर सकती है क्योंकि सरकार किसी के बाप की जागीर नही होती है। सरकार संविधान से चलती है और हमारे संविधान ने हमे जो अधिकार दिया है उसे कोई छीन नही सकता है।
न विकास न राष्ट्रवाद, 4 साल छाया रहा जातिवाद! By: KD Siddiqui, editorgulistan@gmail.com

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*