Skip to Content

GULISTAN

SACH K SATH SADA…..

7 हजार ‘कमल का फूल’ बना रहा ये मुस्लिम कारीगर, मोदी को करना चाहता है भेंट

7 हजार ‘कमल का फूल’ बना रहा ये मुस्लिम कारीगर, मोदी को करना चाहता है भेंट

Be First!

वाराणसी.वाराणसी का एक बुनकर गुजरात के लिए बीजेपी पार्टी सिंबल ‘कमल’ बनाकर गुजरात भेज रहा है। ये कारीगर बनारसी साड़ी बनाने के अलावा बीजेपी के चुनाव चिह्न ‘कमल’ में रंग भरने का काम कर रहा है। शंकरतालाब के रहने वाले मो. अजरुद्दीन को गुजरात विधानसभा के दूसरे फेज के लिए ‘कमल’ बनाने का ऑर्डर मिला है। पहले फेज के लिए 5000 ‘कमल’ वो गुजरात भेज चुका है। आपको बता दें कि गुजरात विधानसभा के पहले फेज के लिए शनिवार को वोटिंग हुई थी। वहीं, दूसरे फेज के लिए 14 दिसंबर को वोट पड़ेंगे।

-मो. अजरुद्दीन ने बताया- “लोकसभा चुनाव के दौरान भी सीने पर ‘कमल का फूल’ लगाने का चलन देखा गया था। खुद पीएम नरेंद्र मोदी अपनी जैकेट पर पार्टी का सिंबल लगाकर प्रचार करते थे।”
-गुजरात चुनाव के पहले फेज के लिए 5000 पार्टी सिंबल बनाने का ऑर्डर था। जो भेजा जा चुका है। जबकि दूसरे फेज के लिए 2000 ‘कमल के फूल’ का ऑर्डर है।
-एक कमल का फूल बनाने में 2 घंटे का समय लगता है और इसमें बनारस की कारीगरी खास रूप में नजर आती है। जरी, रेशम, गोटा, सितारा, नग से बना
‘कमल’ सालों तक एक जैसा ही रहता है। एक फूल बनाने की कीमत लगभग 150 से 200 रुपये के बीच आती है।

पीएम मोदी को गिफ्ट करना चाहते हैं ‘कमल’

-‘कमल’ बनाने वाले एक बुनकर आरिफ जमाल ने बताया- “22 अक्टूबर को पीएम मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी आये थे तब ये ‘कमल का फूल’ पीएम को देना चाहते थे। पर वो दे नहीं पाए। इस बात का उन्हें मलाल है। लेकिन अब गुजरात चुनाव में बीजेपी की जीत पर पीएम को बड़ा सा ‘कमल’ गिफ्ट देने की तैयारी में हैं।”

मुस्लिम मंच ने दिया है ऑर्डर

-मुस्लिम मंच के सदस्य पूर्णेन्दू उपाध्याय ने ‘कमल’ बनाने का ऑर्डर दिया है। उन्होंने कहा- “गुजरात चुनाव के पहले फेज के लिए 5000 ‘कमल’ का ऑर्डर हमने दिया था। जो भेज दिया गया है। दूसरे फेज के लिए 2000 ‘कमल’ का ऑर्डर है।”
-उन्होंने बताया- “इसका उद्देश्य ये भी है की बनारस के बुनकरों को काम मिले और ये कारीगरी सभी जनमानस तक पहुंच सके। हम 2019 के चुनाव से पहले भी एक बहुत बड़ा आर्डर वाराणसी के बुनकरों को देंगे।”

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*