Skip to Content

आपा का मनोज तिवारी पर हमला: पूछा-आप जनता के साथ हैं या लुटेरे मैक्स के साथ

आपा का मनोज तिवारी पर हमला: पूछा-आप जनता के साथ हैं या लुटेरे मैक्स के साथ

Be First!
by December 11, 2017 दिल्ली

नई दिल्ली.मैक्स अस्पताल का लाइसेंस रद्द करने को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की संयुक्त सचिव अस्वथी मुरलीधरन के बीच जुबानी जंग छिड़ गई। मुरलीधरन ने मनोज तिवारी को टैग करते हुए कमेंट किया, ‘आप इधर-उधर क्यों घुमा रहे हो, सीधा-सीधा बताइए, आप दिल्ली की गरीब जनता के साथ हैं या लुटेरे मैक्स अस्पताल के साथ, जवाब बिल्कुल सीधा दीजिएगा। साहब कभी गरीब जनता की भी सुन लिया करो।’
इसका जवाब देते हुए मनोज तिवारी ने कहा, ‘फिर तोमर की फर्जी डिग्री के लिए अरविंद केजरीवाल को सस्पेंड क्यों नहीं किया? सैकड़ों गरीब कर्मचारी बेरोजगार, सैकड़ों गंभीर मरीज सड़क पर, जो गलती करे उसे दो सजा, गरीबों के इलाज की पॉलिसी लाओ।’ इस पर बुराड़ी से आम आदमी पार्टी के विधायक संजीव झा ने कहा, ‘फर्जी डिग्री से याद आया, प्रधानमंत्री और स्मृति ईरानी की डिग्री कब सामने ला रहे हैं आप? जिनके घर शीशों के हों, वे दूसरों पर पत्थर नहीं उछालते।’

  • हाईकोर्ट जाएगा मैक्स, आज ले सकता है फैसला
    मैक्स का लाइसेंस रद्द होने के कारण 1800 से अधिक लोगों की नौकरी खतरे में पड़ गई है। मैक्स अस्पताल अब हाईकोर्ट की शरण ले सकता है। वह सोमवार को इस पर फैसला ले सकता है। पूरे मामले पर जब मैक्स का पक्ष जानने के लिए भास्कर ने बात करने की कोशिश की तो एक ही जवाब मिला कि फिलहाल हम कुछ नहीं कह सकते हैं, विचार कर रहे हैं।

    मैक्स अस्पताल के पास अब दो ही ऑप्शन बचे
    सोशल एक्टिविस्ट और सीनियर एडवोकेट डॉ. अशोक अग्रवाल ने बताया कि मैक्स के पास अब दो ही ऑप्शन हैं। पहला कि वह दिल्ली सरकार में इस मामले पर दोबारा अप्लाई करे या दूसरा हाईकोर्ट जाए। हालांकि, उनका मानना है कि दिल्ली सरकार को लाइसेंस रद्द करने के फैसले पर फिर सोचना चाहिए।

    पिता बोले- मुझ पर क्या गुजरी है, मैं ही जानता हूं

    मैक्स अस्पताल की लापरवाही के कारण जिस नवजात की मौत हो गई, उनके पिता आशीष ने कहा कि मैं पहली बार पिता बना और डॉक्टरों की लापरवाही से मेरे बच्चों की मौत हो गई। इसलिए मेरे पर क्या गुजरी है, यह मैं ही जानता हूं।

    इसे राजनीतिक मुद्दा न बनाएंनवजात के दादा : नवजात के दादा कैलाश ने अपील की है कि निजी अस्पतालों को सबक सिखाने के लिए केजरीवाल सरकार का फैसला सही है। इसे राजनीतिक मुद्दा न ही बनाया जाए तो बेहतर है।

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*