Skip to Content

अमित शाह की रैली में काला कपड़ा दिखाने वाली दोनों बेटियों को भेजा गया जेल, उनकी फ़रियाद सुनने वाला कोई नही

अमित शाह की रैली में काला कपड़ा दिखाने वाली दोनों बेटियों को भेजा गया जेल, उनकी फ़रियाद सुनने वाला कोई नही

Be First!

नई दिल्ली। इलाहाबाद में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की रैली में काला कपड़ा दिखाने वाली दोनों लड़कियों को पुलिस ने जेल भेज दिया। जब अमित शाह की रैली सड़क से गुजर रही थी उसी समय दो लड़कियां अचानक काफिले के सामने आकर अपने हाथों से काला कपड़ा लहराने लगी। लड़कियों की इन करतूत से सुरक्षा व्यवस्था संभाल रहे अधिकारियों के हाथ पैर सूज गए।

आनन फानन में पुलिस ने लड़कियों को सड़क से घसीट कर हटाया और लाठियों से पिटाई करती हुई अपनी गाड़ी तक ले गए।
सूत्र बताते हैं कि लड़कियों को गाड़ी में बैठाने के बाद पुलिस ने जम कर पिटाई और अभद्र व्यवहार किया। गाड़ी के बाहर लड़कियों के चीखने और चिल्लाने की आवाजें आ रही थी।

अधिकारियों और नेताओं ने इन दोनों लड़कियों से उनके विरोध का कारण जाने बगैर उनको जेल भेज दिया। जिसका सर्वत्र विरोध हो रहा है। पूरी घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और लोग योगी और मोदी सरकार को तानाशाहों की सरकार बता रहे हैं।

लोंगों का कहना है हम आजाद मुल्क में रह रहे हैं विरोध करना नागरिक का अधिकार है। अगर जनता की आवाज को नहीं सुना जाएगा तो जनता के पास विरोध करने के सिवाय और रास्ता नहीं बचता है लेकिन भाजपा की यह सरकार देश की जनता की आवाज़ को कुचलने और दबाने का काम कर रही है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा देने वालों को बेटियों को जेल भेजते हुए तनिक भी शर्म नही आई। जो लड़कियां अपनी आवाज को सरकार तक पहुंचना चाहती थी उनकी आवाज़ को कुचल दिया गया। बेटियों को अपराधियो के पास भेज कर सरकार ने अपनी कुंठित मानसिकता का परिचय दिया है।

मानव अधिकारों को कुचल कर तनाशी से सत्ता में ज्यादा देर बना रहना मुश्किल ही नही नामुमकिन है। तानाशाह जितना ही लोंगों की आवाज को दबाने और कुचलने का प्रयास करेगा जनता में आक्रोश और सरकार के प्रति नफरत उतना ही तेजी से बढ़ेगा और वही नफरत एक दिन ज्वाला बनकर भृष्ट व्यवस्था को जलाकर राख कर देगी। By: KD Siddiqui, editorgulistan@gmail.com

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*