Skip to Content

आज़मगढ़ मुठभेड़: सचिन पाण्डेय को दिल्ली से गिरफ्तार करके पुलिस ने आज़मगढ़ में दिखाया मुठभेड़

आज़मगढ़ मुठभेड़: सचिन पाण्डेय को दिल्ली से गिरफ्तार करके पुलिस ने आज़मगढ़ में दिखाया मुठभेड़

Comment

आज़मगढ़ (ज़िला ब्यूरो)। थाना अहरौला में विगत दिनों मिठाई दुकानदार की हत्या से अहरौला के व्यापारियों में सुरक्षा के प्रति चिंता बरकरार है। गौरतलब है कि 11 अगस्त को सुबह 8 बजे के आसपास मिठाई विक्रेता जितेंद्र मोदनवाल की गोली मार कर हत्या कर दी गयी थी। हत्यारे खुले आम हत्या करके हथियार लहराते हुये फरार हो गए जबकि चन्द कदमों की दूरी पर स्थित थाना अहरौला की पुलिस देखती रह गयी।

दिनदहाड़े हुई हत्या से पूरा बाजार सदमें में है और अपने आप को असुरक्षित महसूस कर रहा है। दुकानदारों के द्वारा लगातार हो रहे विरोध प्रदर्शन और हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग से बैकफ़ुट पर दिखाई दे रही पुलिस ने आनन फानन में दो लड़कों को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार करके मामले को सुलझाने का दावा किया है।

P

आज़मगढ़ पुलिस ने अकबर अली उम्र 18 वर्ष अतरौलिया, सुजीत तिवारी 18 वर्ष ग्राम दोराजपुर और सचिन पाण्डेय 23 वर्ष ग्राम अचलीपुर थाना अतरौलिया को मुठभेड़ के बाद गिरफ्तार किया है। पुलिस और बदमाशो  के बीच हुई मुठभेड़ में दो अभियुक्तों के पैर में गोली लगी है जबकि एक पुलिसकर्मी भी घायल हुआ है।

डीआईजी रेंज आज़मगढ़ ब्रजभूषण के आदेश पर चल रहे इस अभियान में जहां भठभेड़ में गिरफ्तारी दिखा कर अहरौला हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने का दावा किया जा रहा है। वही गिरफ्तार किये गए आरोपियो के परिवार का कहना है कि कोई मुठभेड़ नही हुई है। पुलिस ने पहले लड़कों को गिरफ़्तार किया है फिर उनके पैरों में गोली मार कर मुठभेड़ का रूप दिया गया है।

क्षेत्रवासियों का कहना है जो पुलिस कर्मी घायल हुआ है वह आरोपियों की गोली से नही बल्कि पुलिस की ही गोली से घायल हुआ है। जबकि पुलिस ने 40- 40 हज़ार के घोषित अपराधियों को गिरफ्तार करने का दावा किया है। पुलिस के अनुसार अहरौला हत्याकांड के यही आरोपी है।

गिरफ्तार आरोपियों के परिवार के अनुसार पुलिस फर्जी मुठभेड़ को असली बता कर बेगुनाह लड़कों को गिरफ्तार किया है। जबकि हत्यारा कोई और है जो पुलिस की पकड़ से बाहर है। सचिन को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया और आज़मगढ़ में मुठभेड़ दिखाया गया। यह बात किसी को हजम नही हो रही है।

घायल आरोपियों का इलाज ज़िला अस्पताल जबकि सिपाही का इलाज निजी अस्पताल में चल रहा है।

एस पी ग्रामीण के अनुसार बाजार के सीसीटीवी की फुटेज के अनुसार इन्हीं तीनों लड़कों ने अहरौला के जितेंद्र मोदनवाल की हत्या किया था। By:editorgulistan@gmail.com

Previous
Next

One commentcomments

  1. Azamgarh police shame on u

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*