Skip to Content

अपराध और अतिक्रमण से कराहती दिल्ली, बेलगाम पुलिस, बेखौफ अपराधी

अपराध और अतिक्रमण से कराहती दिल्ली, बेलगाम पुलिस, बेखौफ अपराधी

Be First!
by October 30, 2018 दिल्ली

पूर्वी दिल्ली। यूपी में अपराधियों पर कसते शिकंजे के कारण दिल्ली अपराधियों की शरणगाह बन चुका है। दिल्ली की सीमा से सटे होने के कारण अपराधी दिल्ली में अपराध करके आसानी से यूपी की सीमा में प्रवेश कर जाते हैं।

केंद्र के अधीन होने के कारण जहां दिल्ली पुलिस बेलगाम है वहीं दिल्ली में बढ़ते अपराध से केजरीवाल सरकार लाचार और चिंतित हैं। केजरीवाल सरकार के पास पुलिस नही होने से वह अपने आप को निःसहाय महसूस कर रहे हैं।

यूपी से सटे दिल्ली के मयूर विहार फेस 3 क्षेत्र में अपराधियों का बोलबाला है। थाना न्यू अशोक नगर और थाना गाजीपुर दोनों थाने की सीमा यूपी की सीमा से सटा हुआ है और दोनों थानों में अपराध सबसे ज्यादा है।

थाना न्यू अशोक नगर की हालत सबसे दयनीय है। यहां पर कानून व्यवस्था पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है। अभी एक माह पहले स्मृति वन के पास एक 7 साल की बच्ची के साथ बलात्कार हो गया। स्मृति वन के गेट से हर माह एक दो गाड़ियों चोरी होती हैं। दिन दहाड़े महिलाओं से चैन खींचना, लूट-पाट करना आम बात हो गया है। बावजूद इसके उस सड़क पर न तो समुचित लाइटों की व्यवस्था है और न ही वहां पर पुलिस पेट्रोलिंग होती है।

सड़कों के किनारे ठेलियों पर चिकन और शराब खुले आम लोग पीते हुए देखे जा सकते हैं।

क्षेत्रवासियों का आरोप है कि सब कुछ पुलिस की मिलीभगत से हो रहा है। पुलिस रेहड़ी पटरी वालों से पैसे लेती है जिसके कारण उनके अंदर पुलिस का कोई भय नही है।

पॉकेट-6 एमआईजी की शराब की दुकान और एसएफएस की शराब की दुकान के सामने की लाइट हमेशा बन्द रहती है। यह सब शराब माफियाओं की मिलीभगत से होता है।
लाइटों को इस लिए बन्द किया जाता है ताकि शराबी लोग अंधेरे में चिकन और शराब का आनंद ले सकें।

पुलिस अवैध निर्माण करने वालों से वसूली में मस्त रहती है तो अपराधी अपराध करने में मशरूफ रहते हैं। जनता लुटती पिटती रहती है किसी को जनभावनाओं से कोई सरोकार नही है।
सब को अपना अपना हिस्सा मिल रहा है। भाड़ में जाये जनता।

न्यू कोण्डली की सड़कों पर खड़ी गाड़ियों से शाम को यातायात पूरी तरह से बाधित रहता है लेकिन यातायात पुलिस को यह दिखाई नही देता है। क्योंकि बाजार से लाखों रुपया महीना मिलता है।
न्यू कोण्डली की पूरी बाजार रिहायशी क्षेत्र में बनी है और सड़कों पर अतिक्रमण किया हुआ है लेकिन कोई विभाग उनके खिलाफ कार्रवाई करने को तैयार नही है। कारण सबको अपना अपना हिस्सा मिल रहा है।

लोंगों का कहना है कि दिल्ली पुलिस और एमसीडी अगर केजरीवाल के पास होती तो शायद दिल्ली की कानून व्यवस्था और अतिक्रमण की हालत ऐसी नही होती। यहां पर तो अंधेर नगरी चौपट राजा की कहावत सही साबित हो रही है।
Posted by:  KD. Siddiqui. Email: editorgulistan@gmail.com

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*