Skip to Content

अतरौलिया में हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है छठ पर्व

अतरौलिया में हर्षोल्लास के साथ मनाया जा रहा है छठ पर्व

Be First!

आज़मगढ़/अतरौलिया। आज अतरौलिया में श्रद्धालुओं ने डूबते सूर्य को अर्ध्य दे कर छठ पर्व को मनाया। कल उगते सूर्य को अर्ध्य दे कर पर्व का समापन होगा।

अतरौलिया के पूरब के पोखरे पर हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे हुए हैं। पुलिस और प्रशासन के द्वारा व्यवस्था चुस्त दुरुस्त दिखाई दी। जहां सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस चौकन्ना है वहीं नगरपालिका अध्यक्ष सुभाष जायसवाल और क्षेत्रीय विधायक संग्राम यादव ने पोखरे में स्वच्छ पानी और सफाई व्यवस्था का विशेष ध्यान दिया है। जिससे श्रद्धालुओं को किसी तरह की असुविधा न हो।

थाना अध्यक्ष राकेश सिंह ने “गुलिस्तां” संवाददाता राजेश सिंह को बताया कि छठ के अवसर पर सुरक्षा के मद्देनजर अतिरिक्त सुरक्षा बलों का इंतजाम किया गया है। कल सुबह उगते सूर्य को अर्ध्य देने के बाद पर्व सम्पन्न होगा तब तक सुरक्षा बल मौके पर तैनात रहेंगें।

छठ पूजा का सबसे महत्त्वपूर्ण पक्ष इसकी सादगी पवित्रता और लोकपक्ष है। भक्ति और आध्यात्म से परिपूर्ण इस पर्व में बाँस निर्मित सूप, टोकरी, मिट्टी के बर्त्तनों, गन्ने का रस, गुड़, चावल और गेहूँ से निर्मित प्रसाद और सुमधुर लोकगीतों से युक्त होकर लोक जीवन की भरपूर मिठास का प्रसार करता है।

शास्त्रों से अलग यह जन सामान्य द्वारा अपने रीति-रिवाजों के रंगों में गढ़ी गयी उपासना पद्धति है। इसके केंद्र में वेद, पुराण जैसे धर्मग्रन्थ न होकर किसान और ग्रामीण जीवन है। इस व्रत के लिए न विशेष धन की आवश्यकता है न पुरोहित या गुरु के अभ्यर्थना की। जरूरत पड़ती है तो पास-पड़ोस के सहयोग की जो अपनी सेवा के लिए सहर्ष और कृतज्ञतापूर्वक प्रस्तुत रहता है।

इस उत्सव के लिए जनता स्वयं अपने सामूहिक अभियान संगठित करती है। नगरों की सफाई, व्रतियों के गुजरने वाले रास्तों का प्रबन्धन, तालाब या नदी किनारे अर्घ्य दान की उपयुक्त व्यवस्था के लिए समाज सरकार के सहायता की राह नहीं देखता। इस उत्सव में खरना के उत्सव से लेकर अर्ध्यदान तक समाज की अनिवार्य उपस्थिति बनी रहती है। यह सामान्य और गरीब जनता के अपने दैनिक जीवन की मुश्किलों को भुलाकर सेवा-भाव और भक्ति-भाव से किये गये सामूहिक कर्म का विराट और भव्य प्रदर्शन है।
By: Rajesh Singh,

E-mail:editorgulistan@gmail.com

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*