Skip to Content

मयूर विहार फेस 3 में अपराधियों के हौसले बुलन्द, कैमरे के सामने हुई डकैती

मयूर विहार फेस 3 में अपराधियों के हौसले बुलन्द, कैमरे के सामने हुई डकैती

Be First!
by November 17, 2018 दिल्ली

पूर्वी दिल्ली। मयूर विहार फेस तीन में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। दिन दहाड़े बाजारों में चैन स्नैचिंग, सोसायटियों के अंदर फ्लैटों के ताले तोड़ने जैसे घटनाएं आम बात हो गयी हैं। पहले की अपेक्षा आज कल पुलिस की पेट्रोलिंग बिल्कुल नही होती है। थाना गाजीपुर और न्यू अशोक नगर दोनों थानों में कहीं भी पेट्रोलिंग नही होती है। इस लिए अपराधियों के हौसले बुलंद हैं।

अभी पिछले महीने थाना न्यू अशोक नगर अंतर्गत पॉकेट 6 एम आईजी फ्लैट्स के मेन गेट को फांद कर लुटेरों ने एक फ़्लैट का ताला तोड़ कर चोरी की घटना को अंजाम दिया था। 14 नवम्बर को पॉकेट A2, एलआईजी फ्लैट्स के मकान में कैमरे के सामने लुटेरे ताला तोड़कर पूरे मकान का सारा सामान उठा ले गए। दिनांक 17 नवम्बर की रात को पॉकेट 6 एमआईजी की बाउन्ड्री वाल के कटीले तारों को काटकर चोरों ने अंदर घुसने का प्रयास किया लेकिन सुरक्षा गार्डों की सजगता से चोर घटना को अंजाम नही दे पाए।

एसएफएस के पास के स्मृति वन के पार्किंग का गेट बंद रहता है जिसके कारण घूमने फिरने आने वालों को अपना वाहन बाहर ही खड़ा करना पड़ता है और वहां से हर महीने 2 से चार गाड़ियों चोरी होती हैं लेकिन बावजूद इसके वहां पर कोई पेट्रोलिंग नही होती हैं।

स्कूलों की छुट्टी के समय किसी भी स्कूल के सामने कोई पीसीआर दिखाई नही देती है। सोसायटी के लोंगों का कहना है कि पुलिस की लापरवाही और निष्क्रियता के कारण अपराधियों और असामाजिकत्त्वों के हौसले बुलंद है। हमने कई बार पुलिस के आलाधिकारियों से भी शिकायत किया लेकिन कोई परिवर्तन नही हुआ।
पुलिस के जहां पर अवैध निर्माण चल रहा है वहां अपना हिस्सा लेने के लिए एक बार जरूर आते हैं। उसके अलावा क्षेत्रीय लोंगों की सुरक्षा से किसी को कोई सरोकार नही है।

मयूर विहार फेस तीन में सबसे ज्यादा शराब की दुकाने हैं इस लिए यहां पर अपराध भी सबसे ज्यादा है। दिल्ली की सीमा से सटे हुए राज्य यूपी के अपराधी दिल्ली में घटना को अंजाम देकर आसानी से यूपी की सीमा में घुस जाते हैं।by: KD Siddiqui, editorgulistan@gmail.com

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*