Skip to Content

GULISTAN

SACH K SATH SADA…..

समोवशी विकास होना अवाश्यक : मनमोहन सिंह

समोवशी विकास होना अवाश्यक : मनमोहन सिंह

Be First!
by December 18, 2017 दिल्ली
नई दिल्ली : पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने रविवार को कहा कि विकास बहुत महत्वपूर्ण है, लेकिन उसका समावेशी होना आवश्यक है। विकास तभी समग्र होगा जब वह समाज के हर तबके तक पहुंचेगा। मनमोहन सिंह दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) में आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे।

डीयू के आ‌र्ट्स फैकल्टी में रविवार को दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स (डीएसई) के पूर्व प्रोफेसर प्रो कौशिक बसु के 65वें जन्मदिन पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि विकास का प्रबंधन इतना अच्छा होना चाहिए कि सामाजिक और आर्थिक सीढ़ी के सबसे निचले चरण के लोग भी आर्थिक विकास की प्रक्रियाओं से लाभ की उम्मीद कर सकें। उन्होंने कहा कि आर्थिक विकास का इस तरह का प्रबंध होना चाहिए कि वह सामाजिक और आर्थिक सीढ़ी के सबसे निचले स्तर तक लाभ पहुंचा सके। इसीलिए वर्ष 2004 में जब भारत का प्रधानमंत्री बनने का मौका मिला तो दस साल में उन सभी तत्वों को जोड़ने में समय लिया, जो सामाजिक परिवर्तन की प्रक्रिया में शामिल थे। उन्होंने कहा कि आज भी सरकार को कई जटिल इंफ्रास्टक्चर वाले क्षेत्रों में ध्यान देने की जरूरत है। इनमें ऊर्जा नीति क्षेत्र, पर्यावरण की समस्याएं, शहरीकरण की चुनौती का प्रबंधन आदि शामिल हैं। इस दौरान मनमोहन सिंह ने कहा कि डीएसई जैसे संस्थान और यहा से निकलने वाले विद्वान भी यह सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं कि विकास समावेशी और पर्यावरण के अनुकूल हो।

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह डीएसई के पूर्व प्रोफेसर भी रहे चुके हैं। वहीं वर्ष 2009 से 2012 तक सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार रह चुके प्रो प्रो कौशिक बसु भी डीएसई में पढ़ा चुके हैं।

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*