Skip to Content

स्वच्छता सर्वेक्षण-2018 :पहले पायदान परकानपुर,तीसरे पर लखनऊ

स्वच्छता सर्वेक्षण-2018 :पहले पायदान परकानपुर,तीसरे पर लखनऊ

Be First!
वाराणसी। पिछले स्वच्छता सर्वेक्षण में सूबे में पहले पायदान पर रहने वाला बनारस सोमवार को जारी हुई नगरीय विकास मंत्रालय की स्वच्छ सर्वेक्षण-2018 की रैंकिंग में चौथे स्थान पर खिसक गया। प्रदेश के सर्वाधिक प्रदूषित शहरों में शुमार कानपुर स्वच्छता एप की डाउनलोडिंग के मामले में उसे पीछे छोड़ते हुए स्वच्छता का नया सरताज बना है। सर्वे ने उसे प्रदेश के सर्वश्रेष्ठ एप डाउनलोडिंग में सर्वश्रेष्ठ शहर का तमगा दिया है। हालांकि, यह रैंकिंग अभी परिवर्तनीय है, बनारस के पास शीर्ष स्थान पाने का अभी 31 दिसंबर तक मौका है। स्वच्छ सर्वेक्षण में कानपुर को पूरे देश में भी पहला स्थान मिला। बनारस भी पंद्रह स्थानों के सुधार के साथ 17वें नंबर पर पहुंच गया है।

नगर निगम को स्वच्छता एप की ज्यादा से ज्यादा डाउनलोडिंग कराना महंगा पड़ गया। माहभर से जारी एप डाउनलोडिंग अभियान में 14,182 नागरिकों से मोबाइल एप इंस्टाल तो कराए गए, लेकिन इस्तेमाल के लिए प्रेरित नहीं किया गया। लिहाजा करीब 3675 एप अनइंस्टाल हो गए हैं।
समस्या निस्तारण में भी देरी
एप के जरिए ही तीन सौ लोगों ने एप डाउनलोडिंग करने के बाद असंतोष जाहिर कर दिया। उनकी पेयजल, सीवर, सफाई की समस्या का समय पर निस्तारण नहीं हुआ। लिहाजा, प्रदेश में बनारस की स्वच्छता स्थिति कमजोर पड़ गई।
स्वच्छता मामले में बनारस की रैंकिंग गिरी है। जिसे सुधारने की नए सिरे से कोशिश होगी। अभी 31 दिसंबर तक का हमारे पास मौका है। सामूहिक व त्वरित प्रयास से बेहतरी के प्रयास होंगे।

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*