Skip to Content

एयरटेल को ई-केवाईसी वेरिफिकेशन के लिए 10 जनवरी तक की मोहलत

एयरटेल को ई-केवाईसी वेरिफिकेशन के लिए 10 जनवरी तक की मोहलत

Be First!
by December 22, 2017 व्यापर

नई दिल्ली । आधार नंबर जारी करने वाले भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण अथॉरिटी (यूआइडीएआइ) ने भारती एयरटेल को ई-केवाईसी के जरिये ग्राहकों का वेरिफिकेशन करने की इजाजत दे दी है। लेकिन उसने अपना सख्त रवैया बरकरार रखते हुए फिलहाल 10 जनवरी तक की ही सशर्त इजाजत दी है। एयरटेल पेमेंट बैंक पर इसकी रोक अभी जारी रहेगी।

देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी एयरटेल के 28.2 करोड़ ग्राहक हैं। सूत्रों के मुताबिक यूआइडीएआइ ने एयरटेल को आधार के जरिये इन ग्राहकों की पहचान की इजाजत डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (डीबीटी) की 138 करोड़ रुपये की राशि 55.63 लाख ग्राहकों के मूल बैंक खाते में वापस करने के बाद ही दी है। प्राधिकरण ने एयरटेल के समक्ष यह शर्त रखी थी कि पहले वह यह राशि वापस करे। इस आशय का दूसरा अंतरिम आदेश प्राधिकरण ने 31 मार्च तक मोबाइल कनेक्शन को आधार से लिंक करने के लक्ष्य को देखते हुए दिया है। ताकि उपभोक्ताओं को ई-केवाईसी के जरिये वेरिफिकेशन की सुविधा मिल सके। प्राधिकरण अब 10 जनवरी के बाद रिजर्व बैंक और दूरसंचार विभाग की रिपोर्ट मिलने के बाद इस मामले की समीक्षा करेगी।

प्राधिकरण ने रिजर्व बैंक और दूरसंचार विभाग से एक ऐसा तंत्र विकसित करने को कहा है जिसके तहत आवेदन, प्रोसेस और दस्तावेजों का विस्तृत ब्यौरा हो। इससे भारती एयरटेल के बारे में यह जांच की जा सकेगी कि कंपनी अपने लाइसेंस की शर्तो का पालन कर रही है या नहीं। साथ ही यूआइडीएआइ ने स्पष्ट कर दिया है कि उसने एयरटेल पेमेंट बैंक को ई-केवाईसी करने की इजाजत नहीं दी है और अगली सूचना तक उसकी यह सुविधा बंद रहेगी।

एयरटेल पर यूआइडीएआइ ने जो शर्ते लगाई हैं उनके मुताबिक कंपनी को 24 घंटे में ग्राहकों को यह सूचित करना होगा कि डीबीटी की राशि उसके मूल खाते में वापस जमा कर दी गई है। एयरटेल ई-केवाईसी सुविधा का इस्तेमाल नए सिम कार्ड जारी करने और मौजूदा ग्राहकों के फिर से वेरिफिकेशन के लिए ही कर पाएगा।

By Praveen Dwivedi 

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*