Skip to Content

GULISTAN

SACH K SATH SADA…..

शोध में आया सामने: बच्चों के जीवन पर हावी नहीं हो रही टेक्नोलॉजी

शोध में आया सामने: बच्चों के जीवन पर हावी नहीं हो रही टेक्नोलॉजी

Be First!

लंदन । अधिकांश अभिभावक मानते हैं कि टेक्नोलॉजी बच्चों के जीवन पर हावी हो रही है। यह बच्चों को बहुत सी जरूरी गतिविधियों से दूर कर उनसे उनका बचपन छीन रही है, लेकिन यह सच नहीं है। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने अध्ययन के बाद इस धारणा को गलत ठहराते हुए इसका खंडन किया है। अध्ययन में सामने आया है कि भले ही वयस्कों की तुलना में बच्चे स्क्रीन आधारित उपकरणों पर अधिक समय व्यतीत कर रहे हों, लेकिन अपने मल्टीटास्किंग गुण के कारण अन्य जरूरी काम भी कर रहे हैं।

वे अपना होमवर्क पूरा करते हैं और दोस्तों के साथ खेलने के लिए भी समय निकालते हैं। दरअसल, उन्होंने अपनी बहुत सी गतिविधियों को टेक्नोलॉजी से जोड़ लिया है। अध्ययन में लड़कों और लड़कियों पर अलग-अलग अध्ययन किया गया। इसमें सामने आया कि हालांकि, दोनों ही उपकरणों पर समान समय बिताते हैं, लेकिन उनकी रुचि भिन्न है। जहां लड़के वीडियोगेम को अधिक समय देते हैं, वहीं लड़कियां पढ़ाई या सोशल साइट्स पर अपना समय अधिक बिताती हैं।

इस तरह किया अध्ययन : ऑक्सफोर्ड के वरिष्ठ अनुसंधान सहयोगी किलिअन मुलाना द्वारा किए गए अध्ययन में उन्होंने ब्रिटेन के दो अलगअलग समय का डाटा एकत्र किया। पहला डाटा 2000-01 और दूसरा डाटा 2014-15 में किए गए अध्ययन का था। इनमें इस बात का अध्ययन किया गया कि बच्चे टीवी, वीडियोगेम, खाने, होमवर्क, दोस्तों के साथ खेलने आदि अन्य गतिविधियों को कितना समय देते हैं। 2014-15 में जब स्मार्टफोन और टैबलेट का चलन बढ़ा तब भी इन्हीं चीजों की जांच की गई। यह अध्ययन आठ से 18 साल के बच्चों पर किया गया।

यह परिणाम आए सामने : चाइल्ड इंडीकेटर्स नामक जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के मुताबिक, शोधकर्ताओं ने बच्चों को अपनी दिनचर्या की डायरी भरने और हर गतिविधि को उसमें दर्ज करने को कहा। अध्ययन में सामने आया कि वर्ष 2000 की तुलना में 2015 में बच्चों ने टीवी को देने वाले समय में औसतन 10 मिनट की कटौती की। वहीं, कंप्यूटर, स्मार्टफोन और टैबलेट पर 40 मिनट का इजाफा हुआ। इस प्रकार स्क्रीन उपकरण पर 30 मिनट का समय बढ़ गया।

बहुत सी गतिविधियों को टेक्नोलॉजी से जोड़ा
किलिअन मुलाना के मुताबिक, हालांकि पहली नजर में देखने पर यही लगता है कि टेक्नोलॉजी बच्चों के जीवन पर हावी हुई है, लेकिन विस्तृत और गहन अध्ययन में यह बात गलत साबित होती है। आज बच्चों ने अपनी बहुत सी गतिविधियों को टेक्नोलॉजी से जोड़ दिया है। ज्यादातर पढ़ाई और असाइंमेंट वे कंप्यूटर, टैबलेट्स आदि पर करते हैं। वास्तव में बच्चों ने तकनीक के साथ सामंजस्य बैठाना सीख लिया है। इसलिए यह नहीं कहा जा सकता कि टेक्नोलॉजी बच्चों के जीवन पर हावी हो रही है।

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*