Skip to Content

GULISTAN

SACH K SATH SADA…..

कुश्ती से खत्म हो दादागीरी: अब इस रेसलर ने भी खोला सुशील के खिलाफ मोर्चा

कुश्ती से खत्म हो दादागीरी: अब इस रेसलर ने भी खोला सुशील के खिलाफ मोर्चा

Be First!
by December 31, 2017 खेल कूद
नई दिल्ली। डोपिंग के चलते वाडा से चार साल का प्रतिबंध झेल रहे विश्व चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता भारतीय पहलवान नरसिंह पंचम यादव का मानना है कि कुश्ती से दादागीरी खत्म होनी चाहिए और अगर विपक्षी पहलवानों को या उनके परिवार के सदस्यों को ऐसे ही पीटा गया तो यह खेल जल्द ही समाप्त हो जाएगा।

मेरे साथ भी दादागीरी दिखाकर डोप में इस खेल के कुछ बड़े लोगों ने फंसा दिया था अब राणा के साथ मारपीट का मामला हुआ। जिसको लड़ना है वह मैट पर लड़े। जब 28 वर्षीय इस पहलवान से पूछा गया कि सुशील के खिलाफ कोई कार्रवाई होनी चाहिए तो उन्होंने कहा, ‘चाहे सुशील हो या अन्य कोई पहलवान, जो भी दोषी हो उसके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए। भारतीय कुश्ती संघ और खेल मंत्रालय को इस मामले की जांच करनी चाहिए और निर्दोष को न्याय मिलना चाहिए।

एशियाई खेलों के कांस्य पदक विजेता नरसिंह ने सुशील पर आगे कहा, ‘लगभग तीन साल के बाद राष्ट्रमंडल खेलों के चयन ट्रायल में उतरने के पीछे सुशील का कोई मकसद होगा। राष्ट्रमंडल खेलों में पदक जीतने के बाद राज्य सरकार से बड़ा ईनाम और नौकरी में पदोन्नति भी मिलती है। मुझे भी सीबीआइ से जल्द न्याय मिलने की उम्मीद है। मेरा केस अभी सीबीआइ में चल रहा है वरना मैं भी चयन ट्रायल का हिस्सा होता। पिछले साल रियो ओलंपिक से पहले नरसिंह और सुशील अदालती जंग में फंस गए थे, जिसके बाद डोप प्रकरण सामने आ गया और नरसिंह को निलंबन झेलना पड़ा। इसकी शुरुआत पुरुषों के 74 किग्रा भार वर्ग में ओलंपिक टिकट को लेकर जंग से हुई।

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*