Skip to Content

GULISTAN

SACH K SATH SADA…..

दिल्ली बंद से 1500 करोड़ के कारोबार 20 लाख कामकाजी घंटो का हुआ नुकसान , आम आदमी पार्टी ने केन्द्र सरकार को बताया ज़िम्मेदार

दिल्ली बंद से 1500 करोड़ के कारोबार 20 लाख कामकाजी घंटो का हुआ नुकसान , आम आदमी पार्टी ने केन्द्र सरकार को बताया ज़िम्मेदार

Be First!
by January 23, 2018 दिल्ली

नई दिल्ली। निगम द्वारा की जा रही दुकानों की सीलिंग से आहत दिल्ली के लगभग सात लाख कारोबारियों ने आज अपना कारोबार बंद रखा। दुकानें बंद रहीं और व्यापारियों ने सड़कों पर उतरकर विरोध प्रदर्शन किया। तमाम व्यापारिक संगठनों ने दिल्ली बंद का ऐलान किया। 2000 से ज्यादा व्यापारिक संगठनों के 7 लाख से ज्यादा व्यापारियों ने कारोबार बंद रखा है। बंद से 1500 करोड़ के कारोबार के नुकसान का अनुमान है, वहीं 20 लाख कामकाजी घंटो का नुकसान हुआ। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के व्यापारिक संगठनों ने भी इस बंद का समर्थन किया। आम आदमी पार्टी की ट्रेड विंग ने हाथों में कटोरा लेकर मार्च निकाला। आम आदमी पार्टी ने कारोबारियों के इस भारी नुक्सान और बर्बादी के लिए भाजपा की निगम और केंद्र सरकार को ज़िम्मेदार बताया।

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया की शहरी क्षेत्र में चांदनी चौक, खरी बावली, कश्मीरी गेट, सदर बाजार, चावड़ी बाजार,नई सड़क, नया बाजार, श्रद्धानन्द बाजार, लाहोरी गेट, दरिया गंज, मध्य दिल्ली में कनाट प्लेस, करोल बाग, पहाड़गंज, खान मार्किट, उत्तरी दिल्ली में कमला नगर, अशोक विहार, मॉडल टाउन, शालीमार बाग़, पीतमपुरा, पुएन्जाबी बाग़, पश्चिमी दिल्ली में राजौरी गार्डन, तिलक नगर, उत्तमनगर, जेल रोड, नारायणा, कीर्ति नगर, द्वारका, जनकपुरी, दक्षिणी दिल्ली में ग्रेटर कैलाश, साउथ एक्सटेंशन, डिफेन्स कॉलोनी, हौज़ खास, ग्रीन पार्क, युसूस सराय , सरोजिनी नगर, तुग़लकाबाद, कालकाजी और पूर्वी दिल्ली में, लक्ष्मी नगर, प्रीत विहार, मयूर विहार, शाहदरा, कृष्णा नगर, गाँधी नगर, दिलशाद गार्डन, लोनी रोड, सहित प्रमुख बाजार पूरे तौर पर बंद रहेंगे !

दिन भर के दिल्ली व्यापार बंद के दौरान दिल्ली के व्यापारी दिल्ली के विभिन्न इलाकों में 6 जगह विराट धरने करेंगे जिनमें मुख्य धरना शहरी क्षेत्र में चौक हौज़ काज़ी, चावड़ी बाजार मेट्रो स्टेशन पर, कमला नगर, मॉडल टाउन, राजौरी गार्डन, साउथ एक्सटेंशन एवं कृष्णा नगर पर होंगे ! विभिन्न मार्केटों में व्यापारी सुबह विरोध मार्च भी निकलेंगे !

व्यापारियों की मांग है की सरकार दल्ली के व्यापार को सीलिंग से बचाने के लिए तुरंत आवश्यक कदम उठाये वहीँ दूसरी ओर 31 दिसम्बर, 2017 तक दिल्ली में जहाँ है जैसा है के आधार पर एक एमनेस्टी स्कीम दी जाए, 351 सड़कों को दिल्ली सरकार तुरंत अधिसूचित करे एवं अतिरिक्त निर्माण पर ऍफ़ ए आर को अविलम्ब बढ़ाया जाए ! कैट ने यह भी कहा की लोकल शॉपिंग सेंटर्स कमर्शियल दरों पर दिए गए थे इसलिए उनसे कन्वर्जन चार्ज लेना कहाँ तक उचित है ओर उनको सील किया जाना बेहद दुर्भाग्य पूर्ण है ! दिल्ली में जिस तुग़लकी तरह से सीलिंग हो रही है ओर नगर निगम कानून को ताक पर रख दिया है उसको लेकर व्यापारी बेहद रोष में है !

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*