Skip to Content

नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री को भ्रष्टाचार पर बात करने का नैतिक अधिकार नहीं-कांग्रेस

नयी दिल्ली: प्रधानमंत्री को भ्रष्टाचार पर बात करने का नैतिक अधिकार नहीं-कांग्रेस

Be First!
गुलिस्तां, नेटवर्क।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने भाजपा पर अपना हमला जारी रखते हुए आज कहा कि वह कर्नाटक में ‘एड्डी-रेड्डी गैंग’ को सरंक्षण दे रही है और ‘भ्रष्टाचार की प्रतिमूर्ति’ बीएस येदियुरप्पा के साथ खड़े होने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस विषय पर बात करने का नैतिक अधिकार नहीं है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राजीव शुक्ला ने संवाददाताओं से कहा, ‘प्रधानमंत्री के मंच पर येदियुरप्पा खड़े होते हैं। ऐसे में मोदी जी को भ्रष्टाचार पर बोलने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। येदियुरप्पा भ्रष्टाचार की प्रतिमूर्ति हैं। जब आप उनका साथ दे रहे हैं और भ्रष्टाचार के बारे में बोलते हैं तो अजीबोगरीब लगता है।’

उन्होंने दावा किया, ‘सीबीआई ने केंद्र सरकार के दबाव में येदियुरप्पा को क्लीनचिट दी है। ऐसे में कर्नाटक सरकार ने राज्य को लूटने की जांच एसआईटी से कराने का फैसला किया।’ शुक्ला ने कहा, ‘अब ‘एड्डी-रेड्डी गैंग’ कर्नाटक में फिर से शासन करना और लूटना चाहता है। भाजपा इस गैंग को संरक्षण दे रही है। कर्नाटक की जनता से अपील है कि वह इस गैंग से सावधान रहे।’ वह जाहिर तौर पर येदियुरप्पा और खनन कारोबारी रेड्डी बंधुओं के संदर्भ में ‘एड्डी-रेड्डी’ शब्द का इस्तेमाल कर रहे थे।
पिछले दिनों कर्नाटक में भाजपा अध्यक्ष की जुबान फिसलने का हवाला देते हुए कांग्रेस नेता ने कहा, ‘अमित शाह जी बुद्धिमान व्यक्ति हैं। उनकी जुबान नहीं फिसली है, बल्कि जो बात दिमाग में थी वही जुबान पर आ गयी। उन्होंने सही कहा येदियुरप्पा सरकार सबसे भ्रष्ट थी।’
गौरतलब है कि शाह ने मार्च महीने के अंत में बेंगलूरू में एक संवाददाता सम्मेलन में त्रुटिवश कहा था कि यदि भ्रष्टाचार में कोई प्रतिस्पर्धा कर ली जाए तो येदियुरप्पा सरकार को इस प्रतियोगिता में पहला स्थान मिल जाएगा। हालांकि पास में बैठे एक भाजपा नेता के याद दिलाने पर शाह ने अपनी गलती मानते हुए कहा कि उनका अर्थ वर्तमान की सिद्धारमैया सरकार से था। शुक्ला ने आरोप लगाया कि नरेंद्र मोदी सरकार में किसानों की परेशानी बढ़ती जा रही है और सरकार कुछ नहीं कर रही है।
Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*