Skip to Content

नोयडा : बैठक में किसानों और अधिकारीयों में हुई तीखी नोक झोंक, किसानों ने बैठक का किया बहिष्कार

नोयडा : बैठक में किसानों और अधिकारीयों में हुई तीखी नोक झोंक, किसानों ने बैठक का किया बहिष्कार

Be First!

नोयडा। जिला गौतमबुद्ध नगर के किसानों की मांगों को लेकर 14 दिनों से धरने पर बैठे भारतीय किसान यूनियन की आवाज़ को शासन और प्रशासन अनसुना कर रहा हैं। कल नोयडा के गेझा गांव के किसानों ने प्रदर्शन किया और प्राधिकरण पर दबंगई करने का आरोप लगाया। किसानों का कहना है की प्राधिकरण अपने ही नियमों का पालन नहीं कर रहा है।आबादी की ज़मीनों पर प्राधिकरण अपना कब्ज़ा लेने के लिए किसानों के मकानों को तोडा जा रहा है।

जिन लोगों अपनी ज़मीनों का मुआवज़ा नहीं लिया है उनकी ज़मीनों को भी प्राधिकरण ने अपने नाम कर लिया है और अब किसानों को माफिया बता कर उन पर मुकदद्मा दर्ज किया जा रहा है। जिन किसानों की ज़मीनों का अधिग्रहण हो गया है और किसानों ने उसका प्रतिकर भी ले लिया है, नियमानुसार उनको मिलने वाला दस प्रतिशत आबादी का भूखंड आवंटित कर देना चाहिए लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है।

अधिकारीयों ने धरना खत्म करने का किसानों पर बनाया दबाव

14 से चल रहे धरने के बाद आज प्राधिकरण के अधिकारीयों के कानों तक आवाज़ पहुंची है। सोमवार को सुबह किसानों को प्राधिकरण ने वार्ता करने के लिया बुलाया था लेकिन वार्ता सफल नहीं हो पायी। किसानों ने बैठक का बहिष्कार कर दिया और अधिकारीयों द्वारा धरना खत्म करने का दबाव बनाने एवं धमकी देने का आरोप लगाया।
भारतीय किसान यूनियन के अनुसार जब वार्ता हो रही थी तो उस समय अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी राकेश कुमार मिश्र ने किसानों को धमकी दिया और धरना खत्म करने का दबाव बनाने लगे। आज की बैठक में किसानों की वर्षों पुरानी आबादी को निस्तारित करने के विषय पर वार्ता शुरू हुई किसानों के अनुसार नोएडा बोर्ड मीटिंग में पास जहां है जैसी है के आधार पर आबादियों को नियमित करने की बात रखी व जब तक नोएडा के सभी गांवों का आबादी नियमितीकरण ने कर दिया जाए तब तक किसी किसान की आबादी को नोएडा प्राधिकरण द्वारा हाथ नहीं लगाया जाय
लेकिन अपर मुख्य कार्यपालक अधिकारी राकेश कुमार मिश्रा की भाषा शैली किसानों के प्रति असंवेदनशील थी जिस कारण किसान वार्ता का बहिष्कार कर धरना स्थल पर वापिस आ गए।

14वे दिन भी चलता रहा धरना
आज धरने की अध्यक्षता चौधरी बाबू सिंह ने कि वह संचालन संतराम अवाना द्वारा किया गया है। नोएडा महानगर अध्यक्ष राजेश उपाध्याय द्वारा बताया गया कि सारा प्रशासन व नोएडा प्राधिकरण से लेकर लखनऊ तक यहां के जनप्रतिनिधि मंत्री तक बिल्डरों वे निवेशकों के साथ खड़े हैं। आज तक किसी प्राधिकरण के अधिकारी व सरकार के जनप्रतिनिधियों व सरकार के मंत्रियों के द्वारा किसानों की समस्याओं को लेकर कोई संवेदना नहीं दिखाई दी है। किसी ने आज तक किसानों से मिलने की जहमत नहीं उठाई है। ऐसा प्रतीत होता है कि नोएडा के किसान सरकार पर बोझ हैं।

20 सितंबर को प्राधिकरण के गेट पर होगी महा पंचायत

अब नोएडा प्राधिकरण को जवाब देने के लिए 20 सितंबर दिन बुधवार को नोएडा प्राधिकरण के गेट पर महापंचायत कर नोएडा अधिकारियों की किसानों के प्रति कार्यशैली का जवाब देने का कार्य करेगी जबकि 2011 में नोएडा के पूर्व अधिकारियों एवं तत्कालीन मंत्रियों द्वारा 2011 तक की आबादियों को जहां है जैसी के आधार पर नियमित करने का कार्यालय आदेश नोएडा प्राधिकरण ने जारी किया था यह कार्यालय आदेश आज भी किसानों के पास मौजूद है आज की पंचायत में मुख्य रूप से बैगराज गुर्जर अजीत गोपी फिरे चौहान विकास चौधरी रवि यादव धर्मपाल राजपाल मदन नरेन्द्र भाटी राजकुमार सुंदर सिंह सुभाष राम उलाला महेंद्र चौहान रमेश सुभाष चौहान राहुल एडवोकेट रोहतास बलराज सुंदर सिंह रमेश ओमप्रकाश राकेश चौहान ओमदत्त चौहान कर्मवीर सिंह विजयपाल वरदाराम गजेंद्र यादव राजेंद्र चौहान आदि भारी संख्या में किसान मौजूद रहे।

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*