Skip to Content

गोरखपुर: नियमों की अनदेखी करके चलाये जा रहे हैं मोटर ट्रेनिंग स्कूल, लोगों के जीवन से कर रहे हैं खिलवाड़

गोरखपुर: नियमों की अनदेखी करके चलाये जा रहे हैं मोटर ट्रेनिंग स्कूल, लोगों के जीवन से कर रहे हैं खिलवाड़

Be First!

गोरखपुर (मनव्वर रिज़वी)। जैसे जैसे शहर आधुनिकता की ओर बढ़ रहा है वैसे वैसे युवाओं में कार चलाने की चाह बढ़ती चली जा रही है। जिसके लिए युवाओं को मोटर ड्राइवर ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूलों का रुख करना पड़ता है। शहर में इस समय तमाम मोटर ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल जगह जगह खुले हुए हैं, जहां एक मोटी रकम लेकर युवाओं को नियम कानून ताक पर रखकर कार चलाना सिखाया जाता है । जहां एक और सुरक्षा मानकों की अनदेखी की जाती है तो वहीं दूसरी ओर शहर में संचालित होने वाले ज्यादातर मोटर ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूलों के पास इस काम के लिए सरकारी अनुमति भी नहीं है, इनका पूरा व्यवसाय स्थानीय थाना और स्थानीय अधिकारियों से सेटिंग के आधार पर संचालित होता है। वही आए दिन इन मोटर ट्रेनिंग स्कूल के वाहन से लोगों के घायल होने की खबरें आती रहती हैं।

विगत दिनों ऐसी ही एक घटना गोरखनाथ थाना क्षेत्र के हुमायूंपुर पुल के पास घटी जब एक मोटरसाइकिल सवार को कान्हा ड्राइविंग लर्निंग सेंटर के वाहन ने ठोकर मार दी और उसके पैर में गंभीर चोटें आयीं। पुलिस की सहायता से उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां से उसके परिजन इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज लेकर रवाना हुए । हालांकि प्रभारी निरीक्षक राजनाथ सिंह ने बताया कि इस संबंध में घायल व्यक्ति की ओर से थाने पर अभी तक कोई तहरीर नहीं दी गई है लेकिन गोरखनाथ पुलिस ने मोटर ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल की मारुति कार को अपने कब्जे में ले लिया है।

हादसे के बाद कार चलाने की ट्रेनिंग लेने वाले बालों में घबराहट है जबकि कान्हा ड्राइविंग लर्निंग सेंटर अंधियारी बाघ सूरजकुंड रोड गोरखपुर द्वारा युवाओं से धन उगाही करने का दबाव बनाया जा रहा है।

वही मोटर ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूलों के सम्बंध में एआरटीओ (प्रशासन) से जानकारी चाही गई तो उन्होंने बताया कि मोटर ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूलों को उप परिवहन आयुक्त वाराणसी से अनुमति लेना होता है। शहर में कुल कितने मोटर ट्रेनिंग स्कूल है इस बारे में उन्होंने कहां की इसका कोई रिकॉर्ड आरटीओ कार्यालय में उपलब्ध नहीं है।

जबकि इस संबंध में एसपी ट्रैफिक , आदित्य वर्मा ने बताया कि इन मोटर ट्रेनिग स्कूलों पर हमारा कोई अंकुश नही, यह आरटीओ से सम्बंधित मामला है। देखा जाए तो बड़े पैमाने पर संचालित हो रहे इन मोटर ट्रेनिंग स्कूलों के जरिए युवाओं को ठगने का खेल दबंगई से चल रहा है।

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*