Skip to Content

अल्पसंख्यक समुदायों के होनहार युवाओं को प्रोत्साहन और प्रगति सरकार की प्राथमिकता: नकवी 

अल्पसंख्यक समुदायों के होनहार युवाओं को प्रोत्साहन और प्रगति सरकार की प्राथमिकता: नकवी 

Be First!
गुलिस्तां, नेटवर्क।
नई दिल्ली। मुख्तार अब्बास नकवी ने अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय की मुफ्त कोचिंग के जरिए प्रशासनिक सेवा में चयनित युवकों को सम्मानित किया

केद्रीय अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि उनका मंत्रालय अल्पसंख्यक समुदायों के होनहार युवाओं के प्रोत्साहन और प्रगति के लिए प्रभावी प्रयास कर रहा है।

नकवी ने मंत्रालय के मुफ्त कोचिंग कार्यक्रम की मदद से 2017 की प्रशासनिक सेवाओं में चयनित अल्पसंख्यक समुदायों के युवाओं को आज नई दिल्ली में सम्मानित किया। यह कहते हुए कि अल्पसंख्यक मामलों का मंत्रालय होनहार अल्पसंख्यक युवाओं के लिए देश के प्रतिष्ठित संस्थानों/संगठनों के सहयोग से प्रशासनिक सेवाओं, मेडिकल, इंजीनियरिंग, अन्य प्रशासनिक सेवाओं और बैंकिंग परीक्षा के लिए मुफ्त कोचिंग कार्यक्रम चला रहा है, उन्होंने कहा कि इसका मकसद यह सुनिश्चित करना है कि कमजोर वर्ग का कोई भी होनहार युवा सर्वश्रेष्ठ कोचिंग से वंचित न रहे और बेहतर नौकरी का मौका न गंवाए।

नकवी ने कहा कि संघ लोक सेवा आयोग में सफल युवा अल्पसंख्यक और समाज के अन्य कमजोर वर्गों के युवाओं के लिए अनुकरणीय उदाहरण हैं। उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक समुदायों खासतौर से मुस्लिम युवाओं में अत्यधिक प्रतिभा है और ऐसा माहौल बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं, जिससे उनमें विश्वास पैदा हो। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी की सरकार ने अल्पसंख्यक समुदाय के युवाओं की प्रतिभा की रक्षा करने और उन्हें प्रोत्साहित करने का माहौल दिया है, जिसके परिणामस्वरूप इतनी बड़ी संख्या में अल्पसंख्यक समुदायों के युवाओं का शीर्ष प्रशासनिक सेवाओं में चयन हुआ है।

नकवी ने कहा कि केन्द्र सरकार की बिना किसी भेदभाव के ‘’प्रतिष्ठा के साथ विकास’’ की नीति ने यह सुनिश्चित किया है कि इस वर्ष आजादी के बाद पहली बार रिकार्ड संख्या में 51 मुस्लिमों सहित 131 अल्पसंख्यक युवाओं का प्रशासनिक सेवाओं के लिए चयन किया गया है। श्री नकवी ने कहा कि पिछले वर्ष भी प्रतिष्ठित प्रशासनिक सेवाओं में 52 मुस्लिमों सहित 126 अल्पसंख्यक युवाओं का चयन किया गया। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष प्रशासनिक सेवाओं में 1099 लोगों का चयन किया गया, जिसमें 52 मुस्लिम युवा थे, जो कुल चयनित उम्मीदवारों का 4.5 प्रतिशत है। प्रतिशत के लिहाज से इस वर्ष कुल 990 सफल उम्मीदवारों में से मुस्लिमों का प्रतिशत 5.15 है। इस वर्ष तीन महिलाओं सहित 6 मुस्लिमों का रेंक शीर्ष 100 में रहा।

नकवी ने कहा कि उनका मंत्रालय यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कर रहे अधिसूचित अल्पसंख्यक समुदायों से ताल्लुक रखने वाले होनहार युवाओं के लिए बड़े पैमाने पर मुफ्त कोचिंग कार्यक्रम चला रहा है। विभिन्न संस्थानों और संगठनों के जरिए मंत्रालय प्रशासनिक सेवाओं, अन्य यूपीएससी परीक्षाओं, मेडिकल, इंजीनियरिंग और प्रशासनिक परीक्षाओं की तैयारी कर रहे अल्पसंख्यक युवाओं के लिए नई उड़ान, नया सवेरा जैसे कोचिंग कार्यक्रम चला रहा है। वर्ष 2017-18 के दौरान अधिसूचित अल्पसंख्यक समुदायों के प्रशासनिक सेवा परीक्षा की प्रारंभिक (प्रीलिमिनरी) परीक्षा पास करने वाले युवाओं को नई उड़ान योजना के अंतर्गत वित्तीय सहायता प्रदान की गई है।

अल्पसंख्यक समुदायों के युवाओं के लिए टेलीविजन चैनलों, अखबारों और विभिन्न संस्थानों और संगठनों के जरिए एक जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है, जो यह सुनिश्चित करेगा कि वे इन परीक्षाओं में भाग लें। इस वर्ष देश भर के 15000 से अधिक युवाओं को इस वर्ष मुफ्त कोचिंग प्रदान की जाएगी। पिछली 3 वर्षों के दौरान मुफ्त कोचिंग योजना के उत्सावर्धक नतीजों के बाद यह मुफ्त कोचिंग योजना होनहार युवाओं के लिए अधिक सरल, सुविधाजनक और प्रोत्साहित करने वाली हो गई है। पिछले वर्ष नई उड़ान और नया सवेरा योजनाओं में संशोधन किया गया और यूपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा पास करने वालों के लिए वित्तीय सहायता राशि की दर 50 हजार रुपये से बढ़ाकर एक लाख रुपये कर दी गई है। नया सवेरा कार्यक्रम के अंतर्गत अल्पसंख्यक मामलों का मंत्रालय अल्पसंख्यक युवाओं को मुफ्त कोचिंग प्रदान करने के लिए प्रतिष्ठित संस्थानों और संगठनों के साथ कार्य कर रहा है।

 

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*