Skip to Content

AAP: महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध और हिंसा के ख़िलाफ़ सख़्त कानून बनाये केंद्र सरकार: ऋचा पांडेय

AAP: महिलाओं के प्रति बढ़ते अपराध और हिंसा के ख़िलाफ़ सख़्त कानून बनाये केंद्र सरकार: ऋचा पांडेय

Be First!

नई दिल्ली।पिछले कई सालों से देश की राजधानी दिल्ली में महिलाओं पर होने वाले अपराधों की संख्या लगातार बढ़ रही है। ‘आप महिला संगठन’ बढ़ते हूए इन अपराधों के प्रति काफी चिंतित है, इसलिए समाज मे बढ़ रही महिला हिंसा के विरुद्ध कठोर क़ानून की माँग कर रहा है।

बुधवार को आम आदमी पार्टी महिला विंग की अध्यक्षा ऋचा पांडेय ने एक बयान जारी करते हुए कहा कि देश भर में महिलाओं के खिलाफ बढ़ती हिंसा के केस बढ़ते जा रहे हैं! देश की राजधानी दिल्ली में भी महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। दिल्ली पुलिस की निष्क्रियता के कारण अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। आए दिन महिला उत्पीडन की घटनाओ की ख़बरें टीवी और अखबारों के माध्यम से देखने को मिलती रहती हैं! मनचलों द्वारा सड़क पर चलती हुई लडकियों को गंदे-गंदे शब्द बोलना तो मानो आम बात हो गई है! भाजपा की केंद्र सरकार और कानून व्यवस्था कुम्भकरण की नींद सो रहे हैं!

उन्होंने कहा कि “आप” महिला संगठन लम्बे समय से महिलाओं के खिलाफ हो रहे उत्पीड़न और हिंसा के खिलाफ लड़ाई लड़ रही है, और हमारे अथक प्रयासों से दिल्ली विधानसभा में ‘सर्वसम्मति’ से महिला छेड़छाड़ के खिलाफ एक सख्त बिल पारित हुआ है। इस अभियान को और मजबूती देने के लिए इसकी चर्चा आम महिलाओं के बीच में शुरू की गयी है, और ‘हस्ताक्षर अभियान’ भी शुरू किया गया है। जिसके तहत एक लाख हस्ताक्षर होने के बाद इस समस्या को माननीय गृह मत्रीं राजनाथ सिंह को भेजा जायेगा ताकि दिल्ली ही नही बल्कि देश कि महिलाओं के लिए संसद में भी एक सख्त बिल पास हो, और महिलाओ को भयभीत हो कर बाहर ना निकलना पड़े।

किसी अपराधी या मनचलों द्वारा गलत नियत से पीछा करना “स्टाँकिंग”  कहलाता है यह महिलाओं के खिलाफ वो पहला कदम है जिसको अगर शुरू में ही हम-आप रोक दें तो महिला सुरक्षा को काफी हद तक मजबूत किया जा सकता है।  “स्टाकिंग  ” एक गंभीर सामाजिक अपराध है जो कि महिलाओं की गरिमा को चोट पहुंचाता है, परन्तु समाज इसे बहुत गंभीरता से नहीं लेता है।  इंटरनेट और मोबाइल के  दौर में “स्टाकिंग” के मामलों में और भी बढ़ोत्तरी हो रही है। ऐसे में हम महिलाओं को अपनी सुरक्षा के लिए  एक सख़्त क़ानून की ज़रूरत है। “निर्भया” मामले के बाद बनी ‘जस्टिस वर्मा कमिटी’ ने  भी “स्टाँकिंग”को ग़ैर ज़मानती अपराध की श्रेणी में लाने की सिफ़ारिश की थी।

इस गंभीर समस्या को लेकर ‘अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस’ के उपलक्ष्य में आम ‘आदमी पार्टी के महिला संगठन’ की दिल्ली इकाई  ने एक ‘जन-संवाद’ आयोजित किया था जिसमें समाज के बुद्धिजीवी, वकीलों एवं सभी वर्ग की महिलाओं से चर्चा करने के बाद इस बिल को दिल्ली में प्रस्तावित करने के लिए ज़ोर दिया गया था, और उसी श्रंखला को आगे बढ़ाते हुए आगामी 26 मई 2018 को माननीय मंत्री एवं दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष गोपाल राय की अध्यक्षता  में और कुछ विशिष्ट अतिथियों के साथ ‘आप महिला संगठन’  महिला सुरक्षा एवं “स्टाकिंग” अपराध पर गोल्डन नॉट बैंक्वेट हॉल, गाज़ीपुर मेन रोड, विश्वास नगर (निकट आनंद विहार मेट्रो स्टेशन), दोपहर 2 बजे से सायं 5 बजे तक  एक जन संवाद का आयोजन कर रही हैं।

“आप महिला संगठन” की दिल्ली इकाई की अध्यक्षा ऋचा पाण्डेय मिश्रा ने मीडिया के माध्यम से जनता से अनुरोध किया कि अगर आप अपने घर की महिलाओ की सुरक्षा को लेकर सच मे एक मजबूत कदम उठाना चाहते है तो इस मुहीम को मजबूती दीजिये और “आप महिला संगठन द्वारा जारी किये गए फोन नंबर 8588833565 पर हमें मिस्ड कॉल दे कर अपनी सहमति प्रदान करें।

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*