Skip to Content

वायु प्रदूषण के हमले से बचने के लिए दिल्ली सरकार सख़्त, ऑड -ईवन फॉर्मूला पुनः शुरू

वायु प्रदूषण के हमले से बचने के लिए दिल्ली सरकार सख़्त, ऑड -ईवन फॉर्मूला पुनः शुरू

Be First!
by November 9, 2017 दिल्ली

नई दिल्ली। वायु प्रदूषण के अप्रत्याशित हमले से जूझ रहे दिल्लीवासियों को राहत देने के लिए दिल्ली सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। आज सरकार ने पुनः दिल्ली में ऑड-ईवन फॉर्मूला लागू निर्णय है। इस बार 13 नवंबर से 17 नवंबर तक इस फॉर्मूले को लागू किया जाएगा। दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत आज शाम 4.30 बजे इसकी घोषणा किया। गुरुवार को दिल्ली में मौजूद स्मॉग पर नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) और दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली और केंद्र सरकार को फटकार लगाई है। एनजीटी ने दिल्ली सरकार को फटकार लगाते हुए कहा, ‘आपने दिल्ली को गैस चैम्बर बना दिया है।’ वहीं एनजीटी ने राज्य में निर्माण कार्य को बंद करने के आदेश जारी किए हैं। इसके अलावा दिल्ली, पंजाब, उत्तर प्रदेश और हरियाणा की सरकार को आदेश दिए गए हैं कि वह राष्ट्रीय राजधानी से सटे इलाकों में फसलों को जलाने से रोकने के लिए कदम उठाए।

ऑड-ईवन के लिए सभी तैयारीयां पूरी
गौरतलब है कि बुधवार को अधिकारीयों के साथ बैठक के बाद परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने बताया कि हमने पूरी तैयारी कर लिया है। इसके चलते नागरिकों को किसी तरह की दिक्कत नहीं होगी। परिवहन मंत्री ने बुधवार को परिवहन विभाग, डीएमआरसी, डीटीसी, और डीआईएमटीएस अधिकारीयों के साथ बैठक किया। उन्होंने बताया कि डीटीसी को कुछ समय के लिए 500 बसें किराए पर लेने को कहा गया है। मार्च तक डीटीसी लोगों की सुविधा के लिए 500 अतिरिक्त बसें चलाएगी। डीएमआरसी को भी ऑड-ईवन लागू होने पर 300 बसों की व्यवस्था के लिए कहा गया है। दोपहिया वाहन चालकों को छूट रहेगी। सीएनजी वाहनों के लिए आईजीएल को 1.5 लाख स्टीकर बनाने के निर्देश दिए गए हैं। इन वाहनों को भी व्यवस्था में छूट रहेगी। 5000 सिविल डिफेंस वालंटियर और 400 पूर्व सर्विस मैन व्यवस्था संभालेंगे।

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*