Skip to Content

Azamgarh: माझा कम्हरिया में सरयू नदी की कोख चीर माफिया कर रहे अवैध बालू खनन

Azamgarh: माझा कम्हरिया में सरयू नदी की कोख चीर माफिया कर रहे अवैध बालू खनन

Be First!

आज़मगढ़।(ब्रजेश मौर्य) राजेसुल्तानपुर थाना क्षेत्र :-खनन निरीक्षक प्रशांत यादव की मिलीभगत के कारण खुलेआम खनन माफिया चुनौती दे रहे हैं। हालात यह हैं कि उन्हें न तो ग्रीन ट्रिब्यूनल एक्ट का खौफ है और न ही उच्चतम न्यायालय का। इस कारण वह खुलेआम सरयू नदी की बीच जलधारा में अवैध रूप से खनन कर रहे हैं। सत्ता की हनक का रूतबा इतना है खनन बीहड़ क्षेत्र में नहीं, बल्कि पूर्वांचल का प्राचीन प्रसिद्ध स्थान (ब्रह्मचारी बाबा की कुटी ) के पास मांझा कम्हरिया में महुला- गढ़वल बंधा के नीचे चंद कदमों की दूरी पर सरयू नदी की जलधारा में पोकलैंड मशीन से खनन किया जा रहा है।

बीते विधान सभा चुनाव में सफेदबालू के अवैध खनन को मुद्दा बनाकर सत्ता तक पहुंची भाजपा सरकार में नियम व कानून ताक पर रखकर सरयू में रात- दिन पोकलैंड मशीन गरज रही है। जबकि एनजीटी के नियम व न्यायालय के कड़े निर्देशों के बाद भी महुला – गढ़वल बंधा के नीचे चंद कदमों की दूरी पर दिन- रात पोकलैंड जैसी अन्य आधुनिक मशीनों से खनन किया जा रहा है जिससे न्यायालय के निर्देश व एनजीटी के नियम मजाक बनकर रह गये हैं। लगभग दो महीने से महुला – गढ़वल बंधा के नीचे बमुश्किल 20 मीटर की दूरी पर सरयू में आजमगढ़ और गोरखपुर की सीमा का फायदा उठाकर खुलेआम पोकलैंड गरज रही है और डंपर व ट्रकों पर सफेद बालू भरी जा रही है।

सरयू नदी मे हो रहा अवैध बालू खनन ब्रह्मचारी बाबा की कुटी से गुजरते वक्त हर शख्स को दिखाई पड़ता है लेकिन यहा से गुजरने वाले जिम्मेदार इसे देखकर भी नजरंदाज कर देते हैं। इसके साथ ही यहां पर असलहाधारी भी मौजूद थे। इससे साफ है कि अवैध खनन सत्ताधारी दल से जुड़े माफिया ही कर रहे हैं, जिन्हें सत्ता शीर्ष का आशीर्वाद प्राप्त है जिसके कारण मोक्षदायिनी सरयू की जलधारा पर भी विपरीत असर पड़ रहा है। जगह जगह जलधारा को पोकलैंड से खोदकर मोड़ा गया है। ग्रामीण विश्वनाथ, धवन, करीम, कालीचरन, त्रिभुवन, राजेन्द्र , सुभाष आदि ने बाताया कि जिस दिन से मांझा कम्हरिया में निजी भूमि परमिट मिली है सरयू नदी की जलधारा घटी है उसी दिन से सरयू नदी में पोकलैंड व अन्य मशीनों से अंधाधुंध अवैध बालू खनन किया जा रहा है। इन खनन माफियाओं को न तो नियमों की परवाह है और न कानून का डर है।

जिम्मेदार बोले

एसडीएम हरिनाम ने बताया कि मांझा कम्हरिया में मार्कण्डेय यादव के निजी भूमि परमिट में मशीनों से कोई खनन की अनुमति नहीं है। यदि मशीन से खनन होता होगा तो राजस्व निरीक्षकों की टीम भेजकर जांच करायी जायेगी और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जायेगी। Posted by: editorgulistan@gmail.com

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*