Skip to Content

पांच साल में मयूर विहार फेस-3 की एक सड़क तक नही बनवा पाए भजपा के सांसद महेश गिरी, टिकिट मिलना मुश्किल

पांच साल में मयूर विहार फेस-3 की एक सड़क तक नही बनवा पाए भजपा के सांसद महेश गिरी, टिकिट मिलना मुश्किल

Be First!

पूर्वी दिल्ली। भाजपा के सांसद महेश गिरी ने अपने पांच साल के कार्यकाल में क्षेत्रवासियों को कुछ नही दिया। क्षेत्र के ज्यादातर लोग अपने सांसद को जानते ही नही। मोदी लहर का फायदा मिला, बाबा से सांसद बन गए महेश गिरी, लेकिन जनता की समस्याओं से कोई सरोकार नही समझा, जिसके कारण जहां क्षेत्र के लोंगों में महेश गिरी के प्रति गुस्सा है वहीं पार्टी अब महेश गिरी को टिकिट देने के मूड में दिखाई नहीं दे रही है।

जर्जर सड़कों पर हो सकती है दुर्घटना
कोण्डली विधान सभा के मयूर विहार फेस 3 की मुख्य सड़क इतनी जर्जर हो गयी है कि उस पर चलना खतरे से खाली नही है लेकिन जनप्रतिनिधियों को यह दिखाई नही दे रहा है।

महेश गिरी नही बनाना चाहते हैं बाजार की सड़क
आम आदमी पार्टी के क्षेत्रीय एमएलए मनोज कुमार से जब “गुलिस्तां” संवाददाता ने इस विषय पर बात किया तो उन्होंने बताया कि यह सड़क डीडीए के अधीन है। डीडीए के अधिकारियों से कई बार बात करने की कोशिश की गई लेकिन वह लोग बात करने को तैयार नही हैं। मैं अपनी निधि से पैसा देने के तैयार हूं, लेकिन विभाग के सहयोग के बिना कुछ नही हो सकता क्यों कि कार्य तो डीडीए को करना है। डीडीए केंद्र के अधीन है और वह अपने सांसद की सलाह के बिना कुछ नही करते हैं।
इससे यह स्पष्ट दिखाई दे रहा है कि हमारे सांसद यह नही चाहते कि फेस 3 की सड़क का निर्माण हो। मनोज कुमार ने बताया कि हमने एमसीडी को निधि का पैसा दिया है जिससे क्षेत्र की नालियां, सड़कें और पार्कों का निर्माण किया जा रहा है।

प्रदूषण से लोंगों का सांस लेना हुआ मुश्किल
कई आरडब्ल्यूए से इस विषय पर चर्चा हुई तो उन्होंने बताया कि क्षेत्रीय जनता टूटी सड़कें और प्रदूषण से बहुत परेशान है। जहां क्षेत्र में एसटीपी, कूड़े का पहाड़ और बूचड़खाना प्रदूषण फैला रहा है वहीं टूटी फूटी सड़कों से प्रदूषण और बढ़ गया है।
मार्किट की बाजार के फुटपाथ ही नही सड़कों पर अतिक्रमण हो गया है। पैदल चलने वालों का कोई अधिकार नहीं है।

महिलाएं, बच्चों और बुजुर्गों के लिए फेस 3 मार्किट की सड़क कभी भी जानलेवा साबित हो सकती है। जनता बर्दाश्त कर रही है और पुलिस, पार्षद और निगम के लोग अवैध उगाही में मस्त हैं।
कोण्डली विधान सभा के लोग महेश गिरी की शक्ल से नफरत करने लग गए हैं। अभी कुछ दिनों पहले न्यू कोण्डली में महेश गिरी किसी उद्घाटन कार्यक्रम में आये हुए थे जहां पर 50 लोग भी नहीं दिखाई दिए।

पार्टी नाराज़, टिकिट मिलना मुश्किल
सूत्रों की माने तो महेश गिरी से भाजपा हाई कमान सख्त नाराज है और इस बार महेश गिरी को टिकिट मिलना बहुत ही मुश्किल दिखाई दे रहा है।
Report: KD Siddiqui, Email:editorgulistan@gmail.com

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*