Skip to Content

स्वेटर के मोल-भाव में उलझी सरकार, कड़ाके की सर्दी में ठिठुर रहे हैं बच्चे

स्वेटर के मोल-भाव में उलझी सरकार, कड़ाके की सर्दी में ठिठुर रहे हैं बच्चे

Be First!
  • लखनऊ. बेसिक शिक्षा परिषद के प्राइमरी और जूनियर हाईस्कूलों में बच्चों को स्वेटर बांटने में एक बार फिर पेंच फंस गया है। गुरूवार को दूसरी बार टेंडर जारी होने के बाद दो फर्मे टेक्निकल बिड की शर्ते पूरी करने में सफल हो गई, लेकिन रेट तय नहीं हो पाया।फर्मों ने जिस रेट पर स्वेटर वितरण के लिए प्रस्ताव दिया है। वह सरकार की उम्मीदों से बहुत ज्यादा है। ऐसे में जनवरी के फर्स्ट विक में भी बच्चों को स्वेटर मिलना अब मुश्किल नजर आ रहा है। ये है विवाद की वजह…

    – सरकार की तरफ से GEM पोर्टल पर बच्चों को फ्री बांटे जाने वाले स्वेटर का कोई खरीददार न मिलने पर बेसिक शिक्षा विभाग ने अपने स्तर से टेंडर जारी किया था।

    – 22 दिसंबर तक इसके लिए सरकार के हिसाब से जब फर्म नहीं मिली, उसकी तारीख 27 दिसंबर तक की गई थी। गुरुवार को इसके टेंडर खोले गए, तब पांच फर्मों के प्रस्ताव मिले थे।
    – इसमें सिर्फ दो फर्म इस टेक्निकल एलिजबिलटी को पूरी कर रहे थे। हालांकि, शाम को जब फाइनेंशियल बिड खोली गई तो उम्मीद फिर धूमिल नजर आने लगी।
    – सूत्रों के मुताबिक, सरकार प्रति स्वेटर 200 रुपये खर्च करना चाहती है। फर्मों का प्रस्ताव इससे डेढ़ गुना तक ज्यादा है। फिलहाल आधिकारिक तौर पर कोई भी अधिकारी इस पर बोलने को तैयार नहीं है।

    सपा ने किया था ये कमेंट…
    -सपा प्रवक्ता जूही सिंह ने कहा है- “बच्चों को स्वेटर न मिलने तक गर्म कपड़े न पहने का संकल्प लिया था, लेकिन अब बेसिक शिक्षा मंत्री ने शॉल ओढ़ ली है। उनका ये संकल्प खोखला है।”

    अखिलेश ने कसा था तंज
    -अखिलेश यादव ने ट्वीट कर योगी सरकार पर तंज कसा था। उन्होंने ट्वीट कर लिखा था- “सरकार बार-बार स्वेटर के टेंडर कैंसिल कर रही है। बच्चे सरकार की तरफ से दिए जाने वाले स्वेटर का इन्तजार ही कर रहे हैं। कहीं ऐसा न हो हमारे बच्चे झूठी उम्मीदों की आग तापते ही रह जाएं और उधर टेंडर प्रक्रिया पूरी होते-होते मई और जून आ जाए।”

    अनुपमा जायसवाल दिया ये जवाब
    -अखिलेश के ट्वीट पर यूपी की बेसिक शिक्षा मंत्री अनुपमा जायसवाल ने इस ट्वीट कर जवाब दिया। उन्होंने कहा-“मिस्टर एक्स सीएम, आपकी सरकार रहते हुए 5 सालों तक बच्चे आग ही तापते रहे थे। हमारी सरकार में बच्चे जल्दी ही स्वेटर पहने नजर आएंगे।”

    30 नवंबर तक थी स्वेटर बांटने की डेडलाइन
    -बता दें कि शिक्षा विभाग ने 30 नवम्बर 2017 तक प्राथमिक और जूनियर हाईस्कूलों में बच्चों को स्वेटर बांटे जाने की डेडलाईन तय की थी। अब स्थिति ये है कि बच्चों को स्कूलों में स्वेटर नहीं मिले हैं।

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*