Skip to Content

GULISTAN

SACH K SATH SADA…..

शेयर बाजार: 2017 ने शेयर निवेशकों को किया मालामाल

शेयर बाजार: 2017 ने शेयर निवेशकों को किया मालामाल

Be First!
by December 31, 2017 व्यापर
नई दिल्ली। आखिरी कारोबारी सत्र में भी जबर्दस्त छलांग के साथ दलाल स्ट्रीट ने साल 2017 को अलविदा कह दिया। इस साल जबर्दस्त प्रदर्शन के दम पर बंबई शेयर बाजार (बीएसई) ने निवेशकों को 45 लाख करोड़ रुपये की कमाई करवाकर मालामाल कर दिया। शुक्रवार को बीएसई का सेंसेक्स 208.80 अंक उछलकर 34056.83 के रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ। इस साल सेंसेक्स में कुल 7430.37 अंक यानी 27.91 फीसद की बढ़त दर्ज की गई। पिछले साल इसमें महज 508.92 अंक की तेजी आई थी।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी भी 52.80 अंक की बढ़त के साथ 10530.70 पर बंद हुआ। निफ्टी अपने सार्वकालिक उच्च स्तर से महज 0.80 अंक से पीछे रह गया। 2017 में निफ्टी 28.65 फीसद यानी 2344.90 अंक की बढ़त लेने में सफल रहा।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट: जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के रिसर्च हेड विनोद नायर ने कहा, ‘तीसरी तिमाही में अच्छे कंपनी नतीजों की उम्मीद और मजबूत रुपये से बाजार को बल मिला।’ शुक्रवार को रुपया डॉलर के मुकाबले मजबूत हुआ। 21 पैसे की बढ़त के साथ रुपया प्रति डॉलर 63.87 के स्तर पर बंद हुआ। यह आठ सितंबर के बाद से रुपये का सर्वोच्च स्तर है। इसका असर निवेशकों पर स्पष्ट रूप से देखने को मिला। शुक्रवार को 3.06 फीसद की तेजी के साथ टाटा मोटर्स सेंसेक्स की टॉप गेनर रही। एक्सिस बैंक और टीसीएस के शेयरों में भी ढाई फीसद से ज्यादा की तेजी आई।

खूब बढ़ी कमाई: कमाई के लिहाज से यह साल निवेशकों को मालामाल करने वाला रहा। 2017 में बीएसई में लिस्टेड कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 45,50,867 करोड़ रुपये बढ़कर 1,51,73,867 करोड़ रुपये के स्तर पर पहुंच गया। निवेशकों की कमाई बढ़ाने में कई कंपनियों के सफल आइपीओ का बड़ा योगदान रहा। इस साल कुल 36 कंपनियों ने पब्लिक इश्यू के जरिये बाजार में कदम रखा। इनमें से ज्यादातर को निवेशकों का जबर्दस्त रिस्पांस मिला। लिस्टिंग ने भी उन्हें निराश नहीं किया।

क्या रही वजह: विशेषज्ञों का कहना है कि सरकार की ओर से अर्थव्यवस्था में सुधार के लिए उठाए गए कदमों ने निवेशकों के भरोसे को बढ़ाया। देश में अप्रत्यक्ष करों के सबसे बड़े सुधार वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) का बाजार ने स्वागत किया। मार्च में उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड में भाजपा की सरकार बनने और हाल में गुजरात व हिमाचल प्रदेश में पार्टी की जीत से आर्थिक सुधारों को लेकर निवेशकों का भरोसा बढ़ा। इसके अलावा मूडीज की ओर से करीब 13 साल बाद भारत की रेटिंग में सुधार और वल्र्ड बैंक की ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस’ में भारत की स्थिति सुधरने से भी बाजार में तेजी रही।

Previous
Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*